Analysis Blog Health Political Uttar Pradesh

अमित जानी ने शुरू की मेडिकल हेल्पलाइन, मेरठ जिले को गिफ्ट देंगे 30 एम्बुलेंस

 

मेरठ। प्रगतिशील समाजवादी पार्टी युवजन सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित जानी ने कोविड-19 के दूसरी लहर में मरीजों की बढ़ती संख्या और हाहाकार को देखते हुए जिला मेरठ में मेडिकल हेल्पलाइन शुरू करने की घोषणा की है, इसके तहत वे मेरठ को 30 एम्बुलेन्स गिफ्ट करेंगे, जिसमे अकेले सिवालखास विधानसभा क्षेत्र  पे 10 और बाकी पूरे जिले और आसपास के क्षेत्र में 20 एम्बुलेंस मरीजों को निशुल्क हॉस्पिटल पहुंचाने का काम करेंगी। हर्रा में बातचीत के दौरान अमित जानी ने बताया कि इस समय हजारो ऐसे मामले देखने को मिल रहे है जिनमे एम्बुलेन्स मालिको ने 1 या 2 किमी की छोटी सी दूरी पे भी मरीजों से 10 से 20 हजार रुपये वसूले है, एक महिला से लुधियाना के एक अस्पताल जाने के लिए 1 लाख 40 हजार रुपये मांगे गए, गरीब आदमी पे इलाज के लिए अस्पताल को देने के लिए ही पैसे नही है ऐसे में वो एम्बुलेन्स वालो को इतनी रकम कहाँ से दें? अमित जानी ने कहा कि अब तक वे सिवालखास विधानसभा क्षेत्र में 100 से अधिक सड़क दुर्घटना में मारे गए मृतको के परिजनों को 50 -50 हजार की आर्थिक सहायता कर चुके है, उन घटनाओं में भी उन्होंने देखा है कि मौत का कारण समय से एम्बुलेंस का न मिलना ही रहा है। अमित जानी ने घोषणा की कि मैंने मानवीय दृष्टिकोण से जनपद मेरठ और आसपास के लिए 20 तथा अकेले सिवालखास विधानसभा क्षेत्र के लिए 10 एम्बुलेन्स का निर्माण करना शुरू कर दिया है, ईद के बाद वे एम्बुलेन्स की पहली खेप लेकर हर्रा पहुंचेंगे। जानी, रोहटा और सरूरपुर तीनो ब्लॉक में 10 एम्बुलेन्स के जरिये वे लोगो को समय से हॉस्पिटल तक पहुंचाने का काम करेंगे। अमित जानी ने जानकारी दी कि उनकी एम्बुलेंस, सरधना  नहर के पुल से निवाड़ी के पुल तक, जानी, भोला, पूठ, नानू के सभी पुलो पर उपलब्ध रहेगी, हर्रा, खिवाई, करनावल, सिवालखास, जैसी नगर पंचायतों को 1- 1 सेपरेट एम्बुलेन्स दी जाएगी।

सोनू सूद, पप्पू यादव की तरह जनसेवा में आगे रहते है अमित जानी

ज्ञात रहे कि अमित जानी द्वारा पूर्व में गरीबो के मुफ्त आवास के लिए चौधरी देविलाल असहाय आवास योजना और निर्धन कन्याओं के विवाह के लिए शिवपाल सिंह यादव कन्यादान धन योजना का भी प्रारंभ किया गया था। असहाय आवास योजना के अंतर्गत क्षेत्र में उनके द्वारा आसमोहम्मद क़ुरैशी के पहले मकान का शिलान्यास किया गया था, अमित जानी ने कम समय मे आर्थिक और कानूनी मदद करके सिवालखास में अपनी तेज़ी से पहचान बनाई है

विवादों से दूर होकर चुना जनसेवा का रास्ता

अमित जानी उत्तर प्रदेश के चर्चित विवादित चेहरों में से एक है, उनपर 2012 में लखनऊ में  पूर्व मुख्यमंत्री मायावती की मूर्ति तोड़ने का आरोप लगा था, उसके बाद वे जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के अध्यक्ष कन्हिया कुमार की हत्या की साजिश करने के लिए भी तिहाड़ भेजे गए, उनको कट्टर हिंदूवादी नेता के रूप में भी लोगो ने अल्पसंख्यक समुदाय के खिलाफ ज़हर उगलते देखा है लेकिन अपनी विवादित और हिंदूवादी छवि तथा दर्जनों आपराधिक मुकदमो से निकल पिछले काफी समय से हजारो लोगो की आर्थिक मदद करके अमित जानी ने समाजसेवी और मददगार की छवि बनाई है।

शिवपाल यादव ने बनाया है प्रत्याशी
प्रसपा के मुखिया एवम पूर्व केबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने अपनी पार्टी के पहले प्रत्याशी के रूप में 21 दिसंबर को अमित जानी को सिवालख़ास विधानसभा क्षेत्र से पार्टी का उम्मीदवार घोषित किया था

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *