Analysis Blog Health Muzaffarnagar Uttar Pradesh

शामली के कोरोना योद्धा डॉ खुर्शीद अनवर सैफी को सैल्यूट

शामली:- सही और सच्चे मायनों में इस कोरोना काल मे मानवता की सेवा कर रहे हैं नगर के (वरिष्ठ हृदय चिकित्सक) डॉ खुर्शीद अनवर सैफी शहर शामली में हिन्दू मुस्लिम एकता की पहचान है डॉ साहब जो खुद कोरोना के कारण अपना भाई खो चुके, अपनी एक आँख में समस्या झेल कर भी, पूरी पूरी रात सुबह के 5 बजे तक मरीजो की जान बचा रहे है। हमें गर्व है ऐसे कोरोना योद्धा डॉ खुर्शीद अनवर सैफी पर।  और केवल मुस्लिम मरीजो को नही देख रहे ,बल्कि उससे ज्यादा हिन्दू मरीजो को देख कर अपना चिकित्सक होने का फर्ज निभा रहे है ओर सबको एनेकता में एकता का पैगाम दे रहे है।
विशेष बात यह है इस सब काम को करने के लिए किसो मरीज का गला नही काट रहे जैसा की इस कोरोना महामारी के वक्त में अनेक डॉ और बड़े हॉस्पिटल ने लूट मचा रखी है।
(MBBS) डॉ खुर्शीद अनवर सैफी इस वक्त पूरे जिले में वह काम कर रहे हैं जो एक मिसाल है।कोई और डॉक्टर इस तरीके से कोरोना मरीजो के लिए काम नहीं कर सकता जैसे डॉ खुर्शीद अनवर सैफी लोगों को देख रहे हैं। हमारी डॉ साहब के करीबी शामली के समाजसेवी डॉ आबिद सैफ़ी से बात हुई जिसने कहा कि मैं दावे के साथ कह रहा हूं अगर डॉक्टर खुर्शीद अनवर सैफी इस वक्त मरीजों को ना देखें तो शहर में लाशों का टीला लग जाएगा शमशान और कब्रिस्तान में जगह नहीं मिलेगी लाशों के लिए
शामली के 98% डॉक्टर शाम के 8:00 बजे के बाद अपनी गेट बंद करा देते हैं। ऐसे में डॉक्टर साहब द्वारा लोगों की सेवा काबिले तारीफ है ऊपरवाला डॉक्टर खुर्शीद अनवर सैफी को अच्छी सेहत ओर लंबी उम्र दे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *